Posts

Introduction of india in hindi - bharat ko india kisne kaha?

प्रस्तावना:- प्राचीन काल से आर्यावृत भूमि को ही भारत नाम की संज्ञा मिली हुई थी किन्तु इसका नया नाम ‘इन्डिया’ युनानियो की देन है ! इसकी भू-धरा पर अनेको प्रसिद्ध युद्ध हुए, और राजाओ के पीढ़ी दर पीढ़ी शासन चले ! यह भारत भूमि महान हिमालय से लेकर अनेक बारहमासी नदियों, सदाबहार वनों, घाटियों –कंदराओ और मैदान-पठारों की कई वर्षो से साक्षी रही है ! इसके कई क्षेत्रो की विशेषता ही इसे अन्य देशो की भोगोलिक परिस्थतियो से अलग और अप्रतिम बनाती है ! इसके समान एक ही जगह पर इतनी विषमताओ वाला कोई देश संसार में अन्य दूसरा नहीं है !
विशालता:- भारत के भौतिक स्वरूप की बात की जाये तो यह अत्यंत ही विशाल और मिला-जुला क्षेत्र है जो कई प्रकार की प्राकर्तिक सीमओं में बंटा हुआ है ! हिमालय रंजे के नाम से जाने वाला इसका उत्तरी क्षेत्र मध्य यूरोप तक फैली हुई पहाड़ियों का क्रम है ! यह बलूचिस्तान से बर्मा तक फैला हुआ है ! संसार की सबसे ऊँची चोटी माउंट एवेरेस्ट इसी क्षेत्र में पायी जाती है ! गंगा और यमुना जैसी विशाल और भारत की जीवन रेखा कहे जाने वाली नदिया हिमालय के गर्भ से ही निकली है ! ढलान क्षेत्र होने से ये नदिया विधु…

Different type of affidavit format - शपथ पत्र in english?

Now download affidavits (शपथ पत्र) most commonly used format in india:

1) Affidavit to be Submitted with the Application for Change of Name in The Certificate Due to Marriage
The Registrar, ______________ University Affidavit of Miss.___________ D/o, of Mr. _______ now Mrs. ___________, wife of Mr_______________, aged _____ years, resident of _______________. I, the above named deponent, solemnly affirm and state as under: 1.That I am the applicant in the application being submitted for the change in name and as such I am fully conversant with the facts deposed to below. 2.That I pursued and passed three years Bachelors Degree in Commerce (Hons.), Course from ________________College, affiliated to your University under name Miss.___________from the year ____ to ______under roll No.____________. 3.That my marriage was solemnized with Mr.__________, on ____________, That due to different surname of my husband, my name has changed from Miss. ________________ to Mrs. __________________ . 4.That I …

Recommendation letter in hindi | सिफारिश पत्र?

Recommendation - letter: सिफारिश पत्र: यह letter जिसको लिखा जा रहा है उस person के साथ ही उस object की detail में जानकारी होना बहुत ही जरूरी है ! उस candidate और matter के मामले में deeply knowledge लेने से आपको उसके बारे में letter लिखना आसान हो जायेगा ! यह letter manager, super wiser, professor आदि प्रोफेशनल के लोग करते है ! इस letter में परफॉरमेंस पर अधिक discuss किया जाता है ! यह letter time-limit के साथ दिया जाता है ! यह पत्र कोई भी एडवाइजर, टीचर, या senior लिख सकता है.Example of recommendation letter:from
date......
To.......
Subject:- business स्कूल के लिए सिफारिशी पत्र
dear mr./mrs.,
मुझे ...........(छात्र का नाम ) के बारे में लिखते हुए प्रसन्नता हो रही है ! वह पिछले 2 सालो से हमारे स्कूल का छात्र था ! और उसकी अच्छी PERFORMANCE की वजह से में उसे अच्छी तरह से जानता हु ! स्कूल के अलावा भी EXTERNEL ACTIVITIY में उसने हमेशा पार्ट लिया था. उसने मेरे GUIDE रहते हुए कई PROJECT कम्पलीट किये साथ ही वह अपने काम के प्रति बहुत ज्यादा DEDICATED भी था ! स्कोर की बात की जाय तो उसने सभी EXAMS में अ…

How to Write "Sorry Letter" in hindi - माफ़ी पत्र?

इस पोस्ट में आपको Sorry letter या माफ़ी पत्र हिंदी में (hindi language) कैसे लिखा जाता है इसकी जानकारी मिलेगी और साथ ही Sorry Letter का Example अथवा Format भी मिलेगा तो चलिए शुरू करते हैं.
अपनी गलती को स्वीकार करना मुश्किल काम है और उसके लिए letter लिखना तो और भी मुश्किल लगता है ! कई बार यह संभव नहीं होता है की आप अपनी माफी तुरंत ही किसी से मांग ले किन्तु बाद में भी letter लिखकर इससे माफ़ी मांगी जा सकती है ! यह letter लिखने से पहले आप अपना anger बिलकुल भूलकर एकदम cool down होकर यह पत्र लिखे तो बेहतर होगा ! इस letter में आप अपनी गुस्से की situation का कारण बता सकते है पर साथ ही ध्यान रखे की आप दुसरो पर blame नहीं कर रहे है ! letter में यह लाइन कभी नहीं लिखे की गलती दोनों तरफ से हुई है.Example of sorry letter to father
from...
your address.....
To.....
address......
date.....
dear dad,
में आपको यह पत्र अपनी और से माफ़ी मांगते हुए लिख रहा हु ! पिछले हफ्ते मैंने आपसे यह झूठ बोलकर पैसे मंगवाए थे की मुझे किताबो की जरूरत है ! लेकिन सही में वह पैसे मुझे अपने एक दोस्त को देने थे जिससे मैंने एक महीने पहले…

सचिन : भारतीय क्रिकेट का भगवान???

सचिन तेंदुलकर के नाम से आज दुनिया का कोई भी क्रिकेट प्रेमी अनजान नहीं है ! सचिन भारतीय क्रिकेट की शान है और उन्होंने न केवल विश्व के नंबर एक बल्लेबाज होने का रुतबा हासिल किया बल्कि क्रिकेट के अपने दौर में उसे लगातार कई दिनों तक बनाये भी रखा ! सचिन ने इतनी कम उम्र में ही क्रिकेट के इतने रिकॉर्ड बना दिए जिन्हें तोडा जाना निकट भविष्य में किसी भी क्रिकेट के लिए इतना आसान नहीं होगा ! अपने रिटायरमेंट तक उनकी यह रन बनाने की भूख नहीं मिटी.सचिन बचपन में शरारती बच्चे रहे है और कभी भी मैच में समय पर नहीं पहुच नहीं पाते थे ! जब एक बार मैच में देर से आने पर उन्हें शामिल नहीं किया गया तो वह हमेशा समय पर आने लगे थे ! सचिन ने क्रिकेट के अपने शुरूआती दिन श्री आचरेकर के सानिध्य में प्रशिक्षण में गुजारे थे ! शिवाजी पार्क की दूरी अधिक होने से उन्होंने अपने रिश्तेदार के घर दादर में भी समय व्यतीत करना पड़ा था. यह भी पढ़ें: नारी का महत्त्व?ATM पर निबंध?होली पर निबंध? 1989 में सचिन ने अपने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट क्रिकेट का पदार्पण किया था ! तब से लेकर 2011 का वर्ल्ड कप जितने तक सचिन ही भारतीय क्रिकेट की उम्मीदों क…

Story of munshi premchand ji - मुंशी प्रेमचंद की कहानी?

हिंदी भाषा की एक से बढ़कर एक श्रेष्ठ कहानीयों और अनेक विशाल उपन्यासों के रचयिता मुंशी प्रेमचंद को साहित्य की द्रष्टि से सम्राट की उपमा दी गयी है ! वे हिंदी भाषा के पुरोधा लेखक थे जिन्होंने समाज के सबसे निचले तबके के गरीब और आम व्यक्ति को धरातल पर यथार्थ रूप में चित्रित किया ! उनकी रचनाओ से साफ़ प्रतीत होता है की वह एक कहानीकार और उपन्यासकार ही नहीं बल्कि समाज की अव्यवस्थाओ का चित्रण करने वाले सामाजिक व्यक्ति थे जो अपने दौर की तत्कालीन समस्याओ और विषमताओ से अच्छी तरह से अवगत थे और अपनी रचनाओ के माध्यम से उन्होंने उसका घोर विरोध भी किया.
31 जुलाई 1880 को मुंशी प्रेमचंद एक गरीब कायस्थ परिवार में जन्मे थे ! इनके पिता का नाम अजायब राय था और इनकी डाकखाने में निगरानी करने की नौकरी थी इसी वजह से लोग उन्हें मुंशी अजायब लाल कहने लगे थे ! इनकी माँ का नाम आनंदी था ! किन्तु जब प्रेमचंद केवल सात वर्ष के थे तभी से माँ का साया इनके बचपन से उठ गया था ! कुछ दिनों बाद पिता के दूसरी शादी कर लेने पर सौतेली माँ का व्यवहार प्रेमचंद के प्रति अवहेलना का ही रहा ! उस समय बाल विवाह का प्रचलन होने से प्रेमचंद का व…

धन्यवाद कैसे करे - "Thank You" letter in hindi

इस पोस्ट में आपको Thank you letter या धन्यवाद पत्र कैसे लिखा जाता है इसकी जानकारी दी गई है और साथ में thank you letter का example या format भी hindi में दिया गया है तो चलिए शुरू करते हैं.
यह letter मुख्य रूप से किसी को अच्छे कार्य करने पर उसकी प्रशंसा करने और उस काम के लिए धन्यवाद देने के लिए लिखा जाता है ! personal हो या फिर commersial यह letter एक page से अधिक लम्बा नहीं होना चाहिए ! ऐसे किसी भी person को यह letter लिखा जा सकता है जो इसके लिए deserve करता हो ! अपनी प्रशंसा सभी सुनना चाहते है और आप डाक द्वारा hard कॉपी या फिर mail करके soft copy के माध्यम से यह letter भेज सकते है ! यह आपकी relationship को maintain रखता है ! ज्यादा लेट भेजा गया thank you letter सही नहीं माना जाता है !Example for thanks you letterTo
date
from.....
subject:- thank you letter for present in school function
dear सर/mam
हम बटरफ्लाई किड्स academy की और से आपको यह thank you letter भेज रहे है ! यह स्कूल के annual function में आपको chief guest के रूप में present होने के सम्बन्ध में है ! आपकी उपस्थिति ने उस दिन स्कूल…