Posts

Announcement letter in hindi - घोषणा पत्र कैसे लिखे

Announcement letter सामान्यतया किसी घोषणा के सम्बन्ध में use किया जाता है ! यह किसी व्यक्ति की education, किसी service से retirement या pregnancy आदि की जानकारी के बारे में भी हो सकता है ! कई बार यह घोषणा पत्र किसी नए business या फिर कोई नयी tradition शुरू करने के बारे में भी हो सकता है ! यह easy language में लिखा जाता है जिससे reader उन बातो को अच्छी तरह से समझ सके जो आप उसे बताना चाहते है ! इसके लिए आपको पहले से ही सारी चीजो का एक map या frame तैयार करना होता है जिसमे उसकी detail और refrence जुड़ा हुआ हो !Example of announcement letter:-from
………..
Date……….
To
……………..
Subject:- (mention the purpose)
Dear sir/mam
में ...........(स्वयं का नाम ) अपनी शादी के बारे में आप सबको बताने के लिए यह पत्र लिख रहा हु ! मुझे यह बताते हुए बहुत ही प्रसन्नता हो रही है की जल्दी ही मेरी शादी होने जा रही है ! जैसे ही शादी की तारीख और जगह निश्चित होती है में सबको यह सुचना भी जल्द ही दे दूंगा ! आप मेरे सबसे अच्छे दोस्त हो इसलिए मैंने यह सुचना आपको सबसे पहले दी है ताकि आप अपनी व्यवस्था बना सके !
मुझे आपके आशीर्वाद …

Essay on "Indian Farmer" in Hindi - भारतीय किसान?

किसान त्याग और कड़ी मेहनत का पर्याय और आदर्श माने जाते है ! एक किसान आजीवन अपनी मेहनत के बल पर मिटटी से सोना उगाने की बात को सार्थक करने में लगा रहता है ! तेज धुप हो या कपकपा देने वाली ठण्ड, गरम लू हो या फिर मुसलाधार बारिश वह अपनी इस साधना में अनवरत रूप से लीन रहता है ! ईश्वर पर विश्वास और कड़ा श्रम करना ही उसके विकास का क्रम होता है.
भारत देश की लगभग सत्तर प्रतिशत आबादी गाँवों में निवास करती है ! इनका मुख्य व्यवसाय कृषि है या फिर अप्रत्यक्ष रूप से कृषि से जुडा हुआ है ! कहा भी जाता है की भारत की आत्मा गाँवों में निवास करने वाले किसान ही है ! क्योंकि वह न सिर्फ हम लोगो के भोजन के लिए खाधान्न उपलब्ध कराते है साथ ही देश की संस्कृति और सभ्यता की बागडोर को संभालकर इसकी अखंड परंपरा को भी बनाये रखे हुए है ! इस प्रकार खेती करना ही किसान के लिए भक्ति है और यही उसकी सबसे बड़ी शक्ति भी है.यह भी पढ़ें: होली पर निबंध?दिवाली पर निबंध?इंटरनेट पर निबंध?आज के दौर में हमारा किसान देश के लिए आधुनिक पालन करता साक्षात् विष्णु ही है क्योंकि उसके बल पर ही देश भर में अन्न, फल, शाक आदि की आपूर्ति हो पा रही है ! और…

Superstition Essay in Hindi - अंधविश्वास पर निबंध?

प्रस्तावना:- अल्प ज्ञान प्राप्त किसी अज्ञानी व्यक्ति द्वारा बिना सोचे-समझे किये जाना वाला ऐसा कार्य जिससे कोई परम्परागत रूढ़ी या मान्यता जुडी हुई हो तथा जिसका किसी भी वैज्ञानिक रूप में कोई ओचित्य नहीं हो वह अंध विश्वास की श्रेणी में ही आता है ! यह किसी भी धर्म, मत, सम्प्रदाय में किसी भी स्तर पर पाया जा सकता है –जैसे किसी धार्मिक कृत्य का बिना किसी विवेक के लगातार अनुसरण करते चले जाना या फिर किसी राजनितिक सिद्धांत के प्रति ऐसी स्थायी धारणा बना लेना जिसकी कोई वास्तविकता ही नहीं हो ! इस प्रकार उन सभी विश्वास को अंध विश्वास ही कहा जायेगा जो प्रत्यक्ष अनुभव में नहीं आते या जिनके सामर्थ्य में शंका रहती हो ! अक्सर ये मान लिया जाता है की अज्ञानी और भोले व्यक्ति इसके अधिक शिकार बनते है ! किन्तु यह एक भ्रमित करने वाला विचार है क्योकि इनमे विवेक की शुन्यता होती है तथा ये पारलोकिक शक्तियों में स्वीकारता रखते है इस प्रकार वो सभी मान्यताये और आस्थाए जो विज्ञान के अनुसार किसी भी परिस्थिति में खरी नहीं उतरती वो सब अंध विश्वास को ही परिभाषित करती है.
अंधविश्वास के कारण:- चमत्कारी बाबा और किसी तांत्रिक क…

देश-प्रेम की जानकारी निबंध के रूप में?

प्रस्तावना:- अपने देश को विश्व के अन्य देशो की अपेक्षा अधिक समर्थ, सम्पन्न और स्वयं के निवास और विकास को अधिक महत्व देने वाली इस मात्रभूमि के प्रति प्रसन्नता का गौरव पूर्ण भाव ही देश-प्रेम कहलाता है ! इसमें व्यक्ति चाहता है की उसका सम्बन्ध अपने देश से सदैव बना रहे और अंत तक वह उससे ही जुडा रहे ! यह भावना किसी भी प्रकार के स्वार्थ से रहित होती है और ऐसा व्यक्ति शरीर और आत्मा से अपने देश का सर्वमुखी कल्याण ही करना चाहता है ! देश के प्रति अत्यंत ममता व्यक्त करने वाले इस प्रचंड भाव को ही देश के प्रति भक्ति का दर्जा दिया गया है ! देश के प्रति किया गया प्रेम कर्तव्य के प्रति लगातार प्रेरणा देने वाला होता है ! यह हमे जीवन की और इसके आवश्यक मूल्यों की पहचान कराता है ! देश-प्रेम की भावना हमारे ह्रदय को प्रकाश से भर देती है और किसी भी देश के निवासी मन में उस देश के प्रति देशप्रेम का होना उसकी जीवन की सिद्धि का मूल प्रयोजन होना चाहिए ! देश प्रेम इस सांसारिकता का अनिवार्य गुण होना चाहिए तभी व्यक्ति इसके प्रति अपने कर्तव्यो को समझेगा तथा इसके मूल्यों को आत्मसात करेगा.
महापुरुष: उक्ति एवं कथन:- हि…

कश्मीर समस्या पर निबंध - Kashmir Problem Essay in Hindi?

प्रस्तावना:- अंग्रेजी दासता से अंतत: भारत को छुटकारा तो मिला किन्तु जाते-जाते भी अंग्रेज हमारे सामने कई प्रकार की समस्याओ के पहाड़ खड़े कर गए इनमे मुख्य थे- भारत के विभाजन के बाद के दुष्परिणाम और जो देसी स्वतंत्र राज्य थे उनका एकीकरण ! भारत-पाक विभाजन का बुरा परिणाम तो आज तक हमे इस कश्मीर-समस्या के नाम पर भोगना पड रहा है ! इसी वजह से आज भी इस क्षेत्र के लाखो स्त्री-पुरुष के जीवन का कोई निश्चित आधार या आश्रय नहीं है ! ये देश पर एक तरह से भर ही बने हुए है ! देशी राज्यों की एकीकरण की निति तो लोह-पुरुष वल्लभ भाई पटेल के मार्ग-दर्शन में रंग लाई ! किन्तु हैदराबाद और कश्मीर इन दो राज्यों का विलय इतना आसान नहीं रहा ! थोड़ी सी सैनिक कार्यवाही के बाद पहला राज्य तो नियंत्रित हो गया पर दुसरे राज्य कश्मीर की समस्या वहा के तत्कालीन राजा हरी सिंह के अस्पष्ट समर्थन से पैदा हुई.
समस्या के प्रमुख कारण :- 900 से ज्यादा रियासतों का भारत में विलय होने के बावजूद उस समय कश्मीर के राजा ने विचार में समय गंवा दिया और भारत को अपनी सहमति प्रदान नहीं की ! इस संशयपूर्ण स्थिती का लाभ उठाते हुए पकिस्तान के पठानों ने क…

राष्ट्रीय-एकता पर निबंध - Essay in hindi?

इस पोस्ट में आपको "राष्ट्रीय-एकता" के बारे पूरी जानकारी निबंध के रूप में पढने को मिलेगी?
प्रस्तावना:- विश्व के धरातल पर भारत ने अपनी विशालता और महानता के कारण एक विशिष्ट देश होने का गौरव प्राप्त कर रखा है ! कई प्रकार के ऐतिहासिक चरणों में इसका निर्माण हुआ है ! यहाँ चन्द्रगुप्त, अशोक, विक्रमादित्य और कई प्रसिद्ध मुगल शासको ने राज किया और अपने शासन काल में सारे देश को एक छत्र राज्य की परिधि में लाने की भरसक कोशिश भी की ! इसके प्राचीन जीवन-पदत्ति और अचार-व्यवहार के अनुसरण से लेकर आधुनिक युग की वर्तमान सभ्यता और संस्कृति हमे इसके एकाकार होने की पराकाष्टा का बोध कराती है ! उत्तर का पर्वतीय –भाग हो या दक्षिण का पठार युक्त जनजीवन, गंगा-यमुना जैसी नदियों का उपजाऊ मैदान हो या समुद्र का तटीय जीवन भारत की विभिन्नता में एकता की विशेषता सर्वत्र देखने को मिल ही जएगी ! भारत की महानता को बताते हुए पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसे एक संबोधन में केवल राष्ट्र नहीं होकर एक जीता जागता राष्ट्र-पुरुष बताया है ! वर्तमान में भी केंद्र और राज्य सरकारे इसकी व्यापकता के आधार पर ही समस्त यो…

लाहौर बस यात्रा पर निबंध - Essay in hindi?

लाहौर बस यात्रा पर निबंध (essay) कैसे लिखें इसकी पूरी जानकारी हिंदी में प्राप्त करें?
प्रस्तावना:- 20 फ़रवरी 1999 का दिन भारत-पकिस्तान के अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्धो के लिए एक ऐतिहासिक दिन था ! इस दिन भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने बस द्वारा यात्रा करते हुए अमृतसर की वाघा बॉर्डर से पकिस्तान में प्रवेश किया ! उनकी यह यात्रा लाहौर तक सुनियोजित थी ! भारत-पकिस्तान के विभाजन और 1947 में भारत को आजादी मिलने के बाद यह किसी भी भारतीय प्रधान मंत्री की पहली पकिस्तान यात्रा थी जो सड़क मार्ग से की गयी थी ! सबने इसका महत्व nikson की चीन यात्रा जितना माना था ! सबका मानना यही था की यह यात्रा भारत और पकिस्तान के सम्बन्धो को सामान्य बनाने की दिशा में की गयी ऐतिहासिक पहल थी ! किन्तु दुर्भाग्य से पकिस्तान ने कारगिल युद्ध की घटना से इस पर फिर से कालिख पोत दी.
यात्रा दल और उद्देश्य:- प्रधानमंत्री अपने इस दौरे पर उन सभी प्रतिनिधि लोगो को ले गए थे जो अपने क्षेत्र के बारे में उचित जानकारी रखने के साथ ही कुशल वक्ता थे और आवश्यकता पड़ने पर अपनी उपयोगिता दर्शा सकते थे ! 11 लोगो की इस संय…